– बदलना –

मित्रो, बदलाव प्रकृति का नियम है परंतु कभी हम किसी स्थान या व्यक्ति के साथ ऐसे जुड़ जाते हैं कि उस व्यक्ति और स्थान से दूराव हमें कष्ट और दुःख देता है पर समय और परिस्थितिवश हमें बदलना पड़ता है यानि स्थान, व्यक्ति से भी दूराव हो सकता है जिस परिस्थिति को समझकर दुख और कष्ट को कम किया जा सकता है और एक समय बीतने के बाद खत्म भी क्योंकि ये ठीक कहा गया है कि “Time is a great healer” .
कई बार हम व्यवहार और आदतों आदि में बदलाव पर भी कटाक्ष करते हैं जैसे मसलन एक गाने के बोल हैं ‘बदले बदले मेरे सरकार नज़र आते हैं”इस गाने के बोल में बदले हुए व्यवहार की तरफ इशारा किया गया है । हम ऐसा भी कई बार कह देते हैं कि उसने पासा बदल दिया एक ग्रुप से या किसी एक विचार विशेष से वो किसी दूसरे ग्रुप या विचार विशेष की और चला गया। लोग यों भी कह देते हैं “यार अब वो बदल गया है या बहुत बदल गया है। “यहां बदलने का अर्थ एक व्यक्ति के व्यवहार बदलने से होता है । कई बार व्यक्ति व्यस्त होता है या उलझा हुआ होता है फिर भी कुछ लोग कह देते हैं “अब ये बहुत बदल गया है” ये सारे मतलब व्यवहार बदलने से होते हैं । अब सवाल आता है कि क्या बदलना चाहिए? यदि हाँ तो कितना बदलना चाहिए । इसका उत्तर कोई बहुत जटिल तो नहीं पर समझकर जीवन में अपनाने की ज़रूरत है । स्थान,समय और परिस्थितियों अनुसार बदलना कोई बुरी बात नहीं पर एक बात है जो आपमें नहीं बदलनी चाहिए ,वह है ,आपकी ईमानदार नियत ।आपकी ईमानदार नियत एक जीवन मूल्य है जो किसी परिस्थिति,समय स्थान में नहीं बदलना चाहिए । जिस तरह प्रकृति के नियम नहीं रूप बदलते हैं उसी तरह तुम्हारे भी रूप बदले तो कोई फर्क नहीं मगर नियत नहीं बदलनी चाहिए । यदि ईमानदार व्यक्तियों में ईमानदारी की नीयत बदलती है तो फिर समाज में असंतुलन पैदा होने का खतरा बढ़ेगा क्योंकि जहां बुराई है वहां अच्छाई का होना ज़रूरी हो जाता है तभी संतुलन कायम रह सकता है समाज में ।इसलिए जो भी करो या जितना भी बदलो ,बदल सकते हो पर अपनी नियत में ईमानदारी रखना फिर बदलकर भी तुम नहीं बदलोगे और अपनी मर्यादा पर कायम रह सकोगे ।
©अश्विनी रमेश।

उर्मिला

बहुत अधिक करती रही
प्रेम उर्मिला
इसीलिए करती रही वह
सम्मान
पति की इच्छाओं का
भले ही त्यागने पड़े
इसके लिए उसे
वे सारे सपने,
सारे सुख
जो स्त्री होने से पूर्व देखती है
एक लड़की
और होती है खुश
इन सब के बावजूद
उसने नहीं की कभी भी
शिकायत
न राजा से न पति
बल्कि स्वीकार किया उसने
एक अज्ञातवास,
उसने सहा एक ऐसा
संत्रास
जिसकी वह हकदार भी न थी
क्योंकि वह एक स्त्री थी
जिसका वजूद उसके
स्त्रीत्व में समाया था
वह सीता जैसे
नही फूंक सकी
विद्रोह का बिगुल
न ही परिचित करा सकी
संसार को
अपनी गहन पीड़ा से
उसके भावों को समझने मे
असफल रहे बाल्मीकि
और असफल रहे
तुलसी बाबा
और असफल रहा
आज का विशिष्ट कवि भी
कारण साफ था
क्योंकि सभी के थे अपने अपने
ध्येय
और अपने अपने मंतव्य
इसीलिए आज भी उपेक्षित है
उर्मिला
और पूज्य है
विद्रोह की हुंकार भरने वाली
सीता
क्योकि अत्यधिक समर्पित
प्रेमिकाएं और पत्नियाँ
स्थापित नहीं कर सकती
प्रेम की नवपरिभाषाएं
नाही गढ सकती हैं
प्रेम के प्रेमत्व को
ठीक समय बताती
हाथ में बंधी घड़ी सी
जो नहीं पकड़ पाती
बीते हुए लम्हे