जमीन से जुडीं यथार्थपरक कविताएँ , शायरी तथा अन्य साहित्यिक विधाएं

विचारणीय औऱ अनुकरणीय-1

किसी का कहा हुआ “It is never late”यानी किसी भी कार्य को कभी भी शुरू किया जा सकता है ” ये ऐसा वाक्य है जो निष्प्राण में यानी बिल्कुल निराश व्यक्ति में भी किसी कार्य को करने की प्रेरणा फूंक सकता है ,जिस कार्य को वह यह समझता है कि अब वह यह कार्य नहीं कर पायेगा । कभी किसी काम को ये नहीं सोचना चाहिए कि ये मैं नहीं कर पाऊंगा । हमेशा सीखने की दिलचस्पी,नियत और एटीटूड होना चाहिए । जीवन में ‘सतत प्रयास’ का पॉजिटिव विचार और उसका कार्यान्वयन जीवन को बेहतर बनाता है ।
©अश्विनी रमेश ।

Next Post

Previous Post

Leave a Reply

© 2017 जमीन से जुडीं यथार्थपरक कविताएँ , शायरी तथा अन्य साहित्यिक विधाएं

Theme by Anders Norén